Monday 13 September 2010

माना कि तपिश हैं उनकी सांसों में "शैदाई"

बड़े गरूर से बोले वो हुश्न लबरेज़ यार हमारे
पहलु ही गर सरका देंगे तो आग लगा देंगे
माना कि तपिश हैं उनकी सांसों में "शैदाई"
हम भी मोम नहीं हैं जो वो यूँही पिघला देंगे

3 comments:

  1. Man Gaye my Brother Hum To samjhte the Ki aap vikas Monga Hai bt Aaj jana aap To Sayar Bhi Hai Lucknow ka asar aa gaya. Sayar Hydrabadi Ko aap ne piche chod diya

    ReplyDelete